Kundalini Dhyan Shivir

Shivanand Das ji

LEARN KUNDALINI DHYAN

--------

28TH-29TH JUNE 2018 AT ROHINI DELHI

28th june- Time- 11am to 3pm and 4pm to 7pm.

29th june - Timing- 11am to 3pm and 4pm to 7pm.

-------

आचार्य श्री शिवानंद दास जी के मार्गदर्शन मे २ दिवसीय निःशुल्क कुंडलिनी ध्यान शिविर मे भाग लेकर अपनी शारीरिक- मानसिक व अध्यात्मिक शक्ति को बढाईये. और अध्यात्म का अनुभव लेकर अपनी आर्थिक समस्या, स्वास्थय, पारिवारिक समस्या से मुक्ति पाये.

------------

एक बार इस कुंडलिनी ध्यान शिविर का अनुभव अवश्य ले.

--------------

१८ वर्ष के ऊपर सभी लोग आमंत्रित है!

---------------

FREE ENTRY- FREE ENTRY- FREE ENTRY

---------

CALL FOR BOOKING- 91 9650985157- 8377003396. (Bal kishan)


Mon.-Sun. 11:00 – 21:00
mantravidya@yahoo.com
91 8652439844

To subdue the enemy by Haridra Ganapati Sadhna

Buy To subdue the enemy by Haridra Ganapati Sadhna

माता बगलामुखी के अंग देवता को हरिद्रा गणपति माना जाता है। इसलिए जो भक्त माता बगलामुखी की पूजा करते हैं, उन्हें हरिद्रा गणपति की साधना तथा पूजा अवश्य करनी चाहिए। ..
In stock (11 items)

$50

हरिद्रा गणपती साधना

To subdue the enemy by Haridra Ganapati Sadhna

माता बगलामुखी के अंग देवता को हरिद्रा गणपति माना जाता है। इसलिए जो भक्त माता बगलामुखी की पूजा करते हैं, उन्हें हरिद्रा गणपति की साधना तथा पूजा अवश्य करनी चाहिए। इनकी आराधना करने से शत्रु पक्ष का हृदय द्रवित होकर साधक के वशीभूत हो जाता है। हरिद्रा गणपति साधना तन्त्र-जादू-टोना कर्म को भी नष्ट करने के लिए की जाती है। यही कारण है कि माता त्रिपुरसुन्दरी के द्वारा स्मरण किये जाने पर हरिद्रा गणेश ने प्रकट होकर भण्डासुर दानव के द्वारा किये गये अभिचार यंत्र को नष्ट कर दिया था।

हरिद्रा हल्दी को कहा जाता है। हल्दी का प्रयोग जहॉ भोजन मे किया जाता है, वही शादी-व्याह जैसे शुभ कर्मो मे हल्दी के लेप (उबटन) का प्रयोग किया जाता है। हल्दी को अति शुभ, सुख-सौभाग्य दायक एवं विघ्न विनाशक माना जाता है। हल्दी अनेकों बीमारियों में भी अचूक दवा की तरह कार्य करती है। इसीलिए हरिद्रा गणपति को अत्यन्त ही शुभ माना जाता है। काम्य प्रयोग में विशेष रूप से हरिद्रा गणेश की साधना मनवांछित विवाह, पुत्र प्राप्ति, मनोवांछित फल प्राप्ति एवं शत्रु को वश में करने के लिए की जाती है।

हरिद्रा गणपती साधना विधिः-

हरिद्रा गणपती की साधना की शुरुवात किसी भी बुधवार से, शुक्ल पक्ष की चतुर्थी से, गुरु पुष्य, रवि पुष्य, चन्द्र ग्रहण, सूर्य ग्रहण से की जा सकती है।

साधना की शुरुवात दक्षिण की तरफ मूंह करके करे।

लाल आसन का प्रयोग करे।

२१ माला रोज ७ दिन तक जाप करे।

हरिद्रा गणपती साधना सामग्रीः-

सिद्ध हरिद्रा गणपती यन्त्र, हरिद्रा गणपती माला, हरिद्रा गणपती यन्त्र आसन, सिद्ध हरिद्रा गणेश चित्र, सिद्ध रक्षा सूत्र तथा हरिद्रा गणपती साधना विधि।

हरिद्रा गणपती साधना मन्त्रः-

OM HOOM GAM GLAUM HARIDRAGANAPATAYE VARA-VARADA SARVAJANA HRIDAYAM STAMBHAYA-STAMBHAYA SWAAHA

॥ॐ हुं गं ग्लौं हरिद्रागणपतये वर वरद सर्वजन हृदयाम् स्तन्भय स्तम्भय स्वाहा॥

See puja/sadhana rules and regulation

See- about Diksha

See- success rules of sadhana

See- Mantra jaap rules

See- Protect yourself during sadhana/puja

Who can perform/get sadhana/Puja/DikshaMale above 18 years, Female above 18 years
Wear clothingRed
Puja-Sadhna DirectionSouth
Tithi MuhurthShukl Paksha Chaturthi
Havan/Ahuti10% haridra ganesha mantra havan
Mantra Chanting21 mala haridra ganesha mantra chanting
Puja/Sadhna7 Days
Puja time muhurthAfter 4am
Puja/Sadhana MuhurthWednesday, Guru Pushya Nakshatra, Ravi Pushya Nakshatra, Chandra Grahan, Surya Grahan
Yantra made onBhojpatra
Loading