Tara Sadhana Shivir

शिवानंद दास जी के मार्गदर्शन मे

तारा साधना शिविर

TARA MAHAVIDYA SADHANA SHIVIR FOR STRONG PROTECTION

25-26 MARCH. 2023 at Vajreshwari near Mumbai.


मुंबई के निकट वज्रेश्वरी मे महाविद्या तारा साधना शिविर का आयोजन होने जा रहा है. महाविद्या मे दूसरी महाविद्या तारा मानी जाती है ये हिंदू धर्म व बौद्ध धर्म की शक्तिशाली देवी मानी जाती है. ये माता तिब्बत मे महामाया के नाम से प्रचलित है ये अपने भक्तो को भौतिक व संसारिक सुख प्रदान करती है. इस शिविर मे इनके सभी स्वरूपो यानी शुभ कार्यो मे सफलता देनेवाली "श्वेत तारा",,, आरोग्य, सुख, संतुलन और संतान सुख देने वाली "उष्ण विजया तारा",,,,,, दुःख, भय, शोक और अज्ञानता दूर करने वाली "भृकुटी तारा",,,,,, रोगों से छुटकारा देने वाली "नील तारा"... व शत्रु नजर बाधा से मुक्ति देने वाली "खड्ग युद्ध तारा" की साधना होगी. इनकी साधना अकस्मात धन प्राप्ति के क्षेत्र मे सबसे ज्यादा की जाती है. ये माता संसारिक व भौतिक जीवन मे आने वाले सभी दुखो का नाश करती है. ... इसमें भाग लेने के दो तरीके है एक तो इस पूजन शिविर मे आकर साधना में भाग ले सकते है दूसरा आप ऑनलाइन भी भाग ले सकते हैं अगर आप भाग लेना चाहते हैं तो नीचे डिस्क्रिप्शन में लिंक दिया है वहां पर फॉर्म भरकर आप इस शिविर मे शामिल हो सकते हैं


इसमें भाग लेने के दो तरीके है एक तो इस पूजन शिविर मे आकर साधना में भाग ले सकते है दूसरा आप ऑनलाइन भी भाग ले सकते हैं अगर आप भाग लेना चाहते हैं तो नीचे डिस्क्रिप्शन में लिंक दिया है वहां पर फॉर्म भरकर आप इस शिविर मे शामिल हो सकते हैं


TARA SADHANA SHIVIR- BOOKING


Call for booking-91 7710812329/ 91 9702222903


अगर आप भाग लेना चाहते हैं तो "तारा साधना शिविर बुकिंग" का लिंक दिया है वहां पर फॉर्म भरकर आप इस शिविर मे शामिल हो सकते हैं. TARA SADHANA SHIVIR- BOOKING


Special offer March 26, 2023! Sale for new buyers discount 15%! Button

Chhinnamasta puja for enemy

USE THIS CODE "MEM-15" & GET 15% DISCOUNT TILL FEBRUARY 2023.

Buy Chhinnamasta puja for enemy

Mata Chhinnamasta puja is especially carried out for getting a son, to take away poverty, to realize knowledge...
In stock (11 items)

$180.64

Chhinnamasta puja for enemy

Mata Chhinnamasta puja is especially carried out for getting a son, to take away poverty, to realize knowledge, to destroy enemies and to be a poet. Chhinnamasta is related with the concept of self-sacrifice also because the awakening of Kundalini. Chhinnamasta is also referred to as Chhinnamastika and Prachanda Chandika.

In the story from the Shakta Maha-Bhagavata Purana, which narrates the creation of all Mahavidyas together with Chhinnamasta, Sati, the daughter of Daksha plus the first spouse of the bhagawan Shiva, feels insulted that she and Shiva aren't invited to Daksha's yagna ("fire sacrifice") and insists on going there, regardless of Shiva's protests. After futile makes an attempt to persuade Shiva, the enraged Sati assumes a fierce kind, reworking into the Mahavidyas, who surround Shiva from the ten cardinal directions. Chhinnamasta stands to the right of Shiva in the west.

See puja/sadhana rules and regulation

See- about Diksha

See- success rules of sadhana

See- Mantra jaap rules

See- Protect yourself during sadhana/puja