PANCHANGULI SADHANA

शिवानंद दास जी के मार्गदर्शन मे

2 days

Panchanguli sadhana shivir vajreshwari

Sat+Sun (6th-7th April. 2019) at Vajreshwari. Near Mumbai

125000 to 50000 Mantra jap and Purnahuti

इन लोगो के लिये सबसे ज्यादा लाभदायक है जो इस क्षेत्र मे कार्य कर रहे है. जैसे कि ज्योतिष, अंकशास्त्र, हस्तरेखा शास्त्र, रमल शास्त्र, टेरोकार्ड, फेंग्शुई, वास्तु, रेकी हीलिंग, प्रानिक हीलिंग, टेलीपैथी, डिस्टेंस हीलिंग, फोटो थेरिपी, तंत्र-मंत्र साधक, व हर तरह के अध्यात्मिक उपचार करने वालो के लिये पंचांगुली साधना अनिवार्य मानी जाती है.

Pickup point-(8am) Hotel Hardik place, opp mira road railway station east. Mira road.

Shivir Location- https://goo.gl/maps/AWUTZNAyjky

PANCHANGULI SADHANA BOOKING

Fees 7500/- Including- Sadhana samagri (Panchanguli Yantra, Panchanguli mala, Panchanguli parad gutika, Panchanguli asan, Panchanguli shrangar, Siddha Chirmi beads, Gomati chakra, Tantrokta nariyal, White kaudi, Siddha Rakshasutra, Siddha Rudraksha and more.) + Panchanguli Diksha by Guruji+ Room Stay with Complementary Breakfast, Lunch, Dinner. (Husband-wife 10000/-) Call for booking- 91 9702222903

Srividya Sadhana Shivir

शिवानंद दास जी के मार्गदर्शन मे

श्रीविद्या साधना शिविर

Srividya Sadhna Shivir vajreshwari

(Sat+Sun) 4th -5th May 2019 at Vajreshwari near mumbai.

125000 to 50000 Mantra jap and Purnahuti

धन व जमीन जायदाद का सुख प्राप्त करने के लिये श्रीविद्या साधना से बढकर कोई साधना नही होती. माता श्रीविद्या धन- सुख समृद्धी की अधिष्ठात्री देवी मानी जाती है अगर इनका अनुष्ठान गोपनीय विधि के साथ किया जाय तो सभी प्रकार के सुखो की प्राप्ति होने लगती है. इसलिये इस साधना शिविर मे भाग लेना भी किसी सौभाग्य से कम नही है. इसलिये एक बार अवश्य जरूर इस शिविर मे भाग लेकर अनुभव जरूर प्राप्त करे!


SHRIVIDYA SADHANA BOOKING


Pickup point-(8am) Hotel Hardik place, opp mira road railway station east. Mira road.

Shivir Location- https://goo.gl/maps/AWUTZNAyjky


Fees 7500/- Including- Sadhana samagri (Siddha Shree Yantra, Siddha Shrividya mala, Siddha Shrividya parad gutika, Siddha Shrividya asan, Shrividya shrangar, Siddha Chirmi beads, Gomati chakra, Tantrokta nariyal, White kaudi, Siddha Rakshasutra and more.) + Shrividya Diksha by Guruji+ Room Stay with Complementary Breakfast, Lunch, Dinner. (Husband-wife 10000/-)

Call for booking- 91 9702222903


Lakshmi-Kuber Sadhna Shivir

Out of stock

Buy Lakshmi-Kuber Sadhna Shivir

हमारे हिन्दू धर्म में धन की देवी माता लक्ष्मी और धन के देवता भगवान कुबेर माने जाते हैं। इस लिये कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी (धनतेरस) एवं दीपावली पर मां लक्ष्मी के साथ धनके देवता एवं नव निधिओं के स्वामी भगवान कुबेर की पूजा-अर्चना की जाती हैं...
Out of stock

On request

लक्ष्मी- कुबेर साधना शिविर

Lakshmi-Kuber Sadhna Shivir

Sunday 26th May 2013. 11am to 6pm

At Agrasen Bhuvan, 90 feet road, Ghatkoper E Mumbai

हमारे हिन्दू धर्म में धन की देवी माता लक्ष्मी और धन के देवता भगवान कुबेर माने जाते हैं। इस लिये कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी (धनतेरस) एवं दीपावली पर मां लक्ष्मी के साथ धनके देवता एवं नव निधिओं के स्वामी भगवान कुबेर की पूजा-अर्चना की जाती हैं। लक्ष्मी एवं कुबेर कि पूजा से व्यक्ति कि समस्त भौतिक मनोकामनाएं पूर्ण होकर धन-पुत्र इत्यादि कि प्राप्ति होती हैं। क्योकि आज के भौतिकता वादी युग में मानव जीवन का संचालन सुचारु रुप से चल सके इस लिये धर्म - अर्थ - काम - मोक्ष मे से अर्थ (धन) सबसे महत्व पूर्ण साधन हैं। अर्थ (धन) के बिना मनुष्य जीवन दुःख, दरिद्रता, रोग, अभावों से पीडित होता हैं। अर्थ (धन) से युक्त मनुष्य जीवन में समस्त सुख-सुविधाएं भोगता हैं।


कुबेर दशो दिशाओं के दिक्पालों में से एक उत्तर दिशा के अधिपति देवता हैं। कुबेर मनुष्य कि सभी भौतिक कामनाओं को पूर्ण कर धन वैभव प्रदान करने में समर्थ देव हैं। इसलिए कुबेर कि पूजा-अर्चना से उनकी प्रसन्नता प्राप्त कर मनुष्य सभी प्रकार के वैभव (धन) प्राप्त कर लेता हैं। धन त्रयोदशी एवं दीपावली पर कुबेर कि विशेष पूजा-अर्चना कि जाती हैं जो शीघ्र फल प्रदान करने वाली मानी जाती हैं। वैसे तो इस कलियुग मे प्रत्येक मनुष्य धन की कामना करता है, इसलिये धन की चाहत करने पर तामसिक धन की ही प्राप्ती होती है । यह धन संतुष्टी प्रदान नही करता, मनुष्य मे घमंड पैदा कर देता है। परंतु जो मनुष्य धन प्राप्ति कि कामना करने के साथ सुखी जीवन, संतुष्ट जीवन की भी कामना करते है ऐसे व्यक्ति को ही धर्म-अर्थ-काम-मोक्ष का लाभ मिलता है, और उन पर माता लक्ष्मी-कुबेर की कृपा बराबर बनी रहती है। लक्ष्मी की पृवत्ति चंचल होती है, उसे सिर्फ कुबेर के द्वारा ही आबद्ध (स्थिर) किया जा सकता है।

इस लक्ष्मी- कुबेर साधना शिविर (घाटकोपर) मे भाग लेना भी किसी सौभाग्य से कम नही है, इसमे पहली बार गुरुदेव द्वारा लक्ष्मी-कुबेर दिक्षा प्रदान की जायगी।

FREE ENTRY*

(*Condition Apply)

BOOK THIS SEMINAR AT VAJRESHWARI

Loading