Mon.-Sun. 11:00 – 21:00
mantravidya@yahoo.com
91 8652439844

Swarna gauri sadhana for material life

Buy Swarna gauri sadhana for material life

स्वर्ण गौरी माता पार्वती का सौभाग्य रूप है | यह जीवन में अति आनंद, वैभव, अक्षय धन, संपदा तथा सौभाग्य प्रदान करने वाली देवी है, स्वर्ण गौरी साधना मे सिद्धी के बाद जीवन में निरंतर उत्साह, सफलता तथा पारिवारिक सुख, अध्यात्मिक सुख प्राप्त होते रहतें हैं |
In stock (11 items)

$55

संपूर्ण भौतिक सुख के लिये स्वर्ण गौरी साधना

स्वर्ण गौरी माता पार्वती का सौभाग्य रूप है | यह जीवन में अति आनंद, वैभव, अक्षय धन, संपदा तथा सौभाग्य प्रदान करने वाली देवी है, स्वर्ण गौरी साधना मे सिद्धी के बाद जीवन में निरंतर उत्साह, सफलता तथा पारिवारिक सुख, अध्यात्मिक सुख प्राप्त होते रहतें हैं |

जिस तरह से प्यासे व्यक्ति को पानी की दो बूंद भी अमृत समान लगती है, उसी तरह जीवन के क्षेत्र मे निराश व्यक्ति, पारिवारिक सुख-विहीन व्यक्ति, हमेशा कर्ज मे दबा रहने वाला ब्यक्ति, दुख-दारिद्र का जीवन जीने वाला ब्यक्ति, समाज मे उचित मान-संमान न पाने वाला ब्यक्ति तथा चारो तरफ से विपदाओ मे घिरा रहने वाले ब्यक्ति के लिये यह साधना अमृत समान ही मानी गयी है. सुवर्ण गौरी साधना जीवन के इस रेगिस्तान में अमृत धारा के सामान है एक बार साधना सिद्ध हो जाने पर साधक के जीवन में स्वर्ण गौरी माता की कृपा हमेशा बनी रहती है.

विशिष्ठ ग्रन्थ आनंद मंदाकिनी मे स्वर्ण गौरी के बारे मे कहा गया है कि जो ब्यक्ति स्वर्ण गौरी की १६ शक्तियो को सिद्ध कर लेता है वह संसार का सर्व सुख भोगने वाला सौभाग्यशाली व्यक्ति बन जाता है |

माता स्वर्ण गौरी के सोलह स्वरुप इस प्रकार हैं

  • अमृताकर्षणिका गौरी (AMRITAKARSHNIKA GAURI)
  • रूपाकर्षणिका गौरी (RUPAKARSHNIKA GAURI)
  • सर्वासाधिनी गौरी (SARVASADHINI GAURI)
  • अनंगकुसुम गौरी (ANANGKUSUMA GAURI)
  • सर्वदुखविमोचिनी गौरी (SARVDUKHVIMOCHINI GAURI)
  • सर्वसिद्धिप्रदा गौरी (SARVSIDDHIPRADA GAURI)
  • सर्वकामप्रदा गौरी (SARVKAAMPRADA GAURI)
  • सर्वविघ्ननिवारणी गौरी (SARVVIGHNANIVARINI GAURI)
  • सर्वस्तम्भनकारिणी गौरी (SARVSTAMBHANKARINI GAURI)
  • सर्वसंपत्तिपूर्णी गौरी (SARVSAMPATTIPURNI GAURI)
  • चित्ताकर्षणिका गौरी (CHITTAKARSHNIKA GAURI)
  • कामेश्वरी गौरी (KAAMESHWARI GAURI)
  • सर्वमंत्रमयी गौरी (SARVMANTRAMAYI GAURI)
  • सर्वानन्दमयी गौरी (SARVANANDMAYI GAURI)
  • सर्वेशी गौरी (SARVESHI GAURI)
  • सर्ववाशिनी गौरी (SARVVASHINI GAURI)
स्वर्ण गौरी साधना सामग्री:--
  • सिद्ध स्वर्ण गौरी यन्त्र
  • सिद्ध गौरी माला
  • सिद्ध साफल्य गुटिका
  • ३ गोमती चक्र
  • ५ काली चिरमी दाना
  • ५ लाल चिरमी दाना
  • ५ सफेद चिरमी दाना
  • हरिद्रा गणेश (साधना मे सफलता प्राप्त करने के लिये)
  • गौरी आसन
  • लाल आसन
  • सिद्ध हरी चुनरी
  • सिद्ध गौरी श्रंगार
  • सिद्ध सुरक्षा कवच बैज (Badge)
  • गुरु यंत्र बैज (Badge)
  • सिद्ध गौरी जप थैली
  • स्वर्ण गौरी साधना मन्त्र
  • स्वर्ण गौरी साधना की संपूर्ण विधि

स्वर्ण गौरी साधना से लाभ

  • आर्थिक उन्नति
  • दुकान तथा ब्यापार मे नजर दोष या तन्त्र प्रभाव का नष्ट होना
  • निर्णय लेने की क्षमता मे बृद्धि
  • सुखी पारिवारिक जीवन
  • नौकरी मे उन्नति
  • विदेश यात्रा मे सफलता
  • उच्च सिक्षा मे सफलता
  • कर्ज मुक्ति
  • मन और शरीर मे उत्साह
  • ब्यापार मे विस्तार
  • शत्रु पर नियंत्रण

स्वर्ण गौरी मुहुर्थ

  • दिनः किसी भी मंगलवार, ग्रहण, पुर्णिमा, शिवरात्री, होली.
  • दिशाः पूर्व
  • समयः रात १० बजे के बाद
  • साधना अवधिः ११ दिन
  • मन्त्र जप संख्याः २१ माला रोज
  • साधना स्थलः कोई भी शांत स्थल या पूजा घर
  • विशिष्ठ साधना मुहुर्थः अक्षय त्रित्तीया

अक्षय त्रितीया मुहुर्थ

  • दिनः अक्षय त्रितीया
  • दिशाः पूर्व
  • समयः रात १० के बाद
  • साधना अवधिः १ दिन
  • जप संख्याः ४१ माला
  • साधना स्थलः कोई भी शांत स्थल या पूजा घर

यह साधना अक्षय त्रितीया मे सिर्फ १ दिन की ही होती है और ४१ माला का जाप करे

साधना काल मे ब्रम्हचर्य का पालन अवश्य करे.

See puja/sadhana rules and regulation

See- about Diksha

See- success rules of sadhana

See- Mantra jaap rules

See- Protect yourself during sadhana/puja


Loading