Mon.-Sun. 11:00 – 21:00
mantravidya@yahoo.com
91 8652439844

Navgrah dosha nivaran pitambara sadhana

Buy Navgrah dosha nivaran pitambara sadhana

माता बगलामुखी को ही पीताम्बरा कहा जाता है,यह साधना किसी भी नवरात्रि मे की जाने वाली साधना होती है या किसी...
In stock (11 items)

$41

पीताम्बरा (बगलामुखी)- नवग्रह दोष निवारण साधना

माता बगलामुखी को ही पीताम्बरा कहा जाता है,यह साधना किसी भी नवरात्रि मे की जाने वाली साधना होती है या किसी भी शुक्ल पक्ष के मंगलवार यह साधना आरंभ कर सकते है। इस साधना का प्रभाव तुरंत ही साधक के जीवन मे देखने मिलता है,साधना की यह विशेषता है के माँ पीताम्बरा नक्षत्र स्तंभीनी भी कही जाती है और जब नक्षत्र स्तंभीनी से हम प्रार्थना करते है तो हमारे सभी प्रकार के कार्य सहज ही सम्पन्न हो जाते है,अभी तक आपने पीताम्बरा जी की कई साधना ये सम्पन्न की होगी परंतु यह साधना आज के युग मे अत्यंत आवश्यक साधना मानी गयी है,इस साधना से जहा नवग्रह देवता के दोष कम होते वैसे ही उनकी प्रचंड कृपा भी प्राप्त होती है और जीवन मे कई प्रकार के लाभ होते है,इसी साधना से भाग्योदय भी संभव है॰इस साधना से कालसर्प-दोष,नक्षत्र-दोष,पितृ- दोष, कुंडली मे जीतने भी दोष हो उनकी समाप्ती निच्छित ही होती है|

पीताम्बरा (बगलामुखी):-नवग्रह दोष निवारण साधना विधि :-

किसी बड़ी सी स्टील या तांबे के प्लेट मे सिद्ध बगलामुखी यंत्र हल्दी के स्याही से अनार के कलम से निर्मित करे,साधना मे पीले रंग के पुष्प, आसन, वस्त्र का ही उपयोग करे अन्य रंग का उपयोग वर्जित है, मंत्र जाप सिद्ध हल्दी माला से करना है,समय रात्रिकालीन होगा जो आपको उपयुक्त है, दिशा उत्तर/पच्छिम अति उत्तम है, साधना से पूर्व नित्य गुरु और गणेश पूजन अवश्य सम्पन्न करे और साधना के प्रथम दिवस पर संकल्प अवश्य लीजिये,यह साधना तभी की जाती है जब नवरात्रि का प्रारम्भ शनिवार/मंगलवार को होता है॰

पीताम्बरा (बगलामुखी):-नवग्रह दोष निवारण साधना-मानसिक पीताम्बरा पूजन :-

श्री पीताम्बरायै नम: लं पृथ्वीव्यात्मकं गंन्ध समर्पयामी ।

श्री पीताम्बरायै नम: हं आकाशात्मकं पुष्प समर्पयामी ।

श्री पीताम्बरायै नम: यं वार्यात्मकं धुपं समर्पयामी ।

श्री पीताम्बरायै नम: रं तेजसात्मकं दीपं समर्पयामी ।

श्री पीताम्बरायै नम: वं अमृतात्मकं नैवेद्द्य समर्पयामी ।


पीताम्बरा (बगलामुखी):-नवग्रह दोष निवारण साधना मंत्र :-

॥ ॐ नमो भगवते मंगल शनि राहू केतू चतुर्भुजे पीताम्बरे अघोर रात्रि कालरात्रि मनुष्यानां सर्व मंगल तेजस राहवे शांतये शांतये केतवे क्रूर कर्मे दुर्भिक्षता विनाशाय फट स्वाहा ॥

इस साधना का जाप ३ माल ९ दिन तक करे और दशमी के दिन या द्सवे दिन पीली सरसो से २९२ आहुतियॉ अग्नि मे समर्पित करे, तत्पश्तात हो सके तो किसी शिव मंदिर जाकर किसी गरीब भूखे व्यक्ति को अन्न दान करके संतुष्ट करे। बगलामुखी माला को जल मे विसर्जित कर दे। प्लेट मे जो यंत्र निर्माण किया था उसमे जल डालकर प्लेट धोकर वह जल घर मे ही किसी पौधे मे डाल दे।

पीताम्बरा (बगलामुखी):-नवग्रह दोष निवारण साधना सामग्री-

सिद्ध बगलामुखी यंत्र, सिद्ध बगलामुखी माला, सिद्ध बगलामुखी विग्रह, सिद्ध बगलामुखी चित्र, नवग्रह दोष निवारण साधना सामग्री की विधिवत विधी।

See puja/sadhana rules and regulation

See- about Diksha

See- success rules of sadhana

See- Mantra jaap rules

See- Protect yourself during sadhana/puja

Who can perform/get sadhana/Puja/DikshaMale above 18 years, Female above 18 years
Wear clothingYellow
Puja-Sadhna DirectionNorth, West
DescriptionsPitambara sadhana samagri:- siddha bagalamukhi yantra, siddha bagalamukhi mala, bagalamukhi vigrah, yellow asan, holly threads, sadhana methods
Havan/Ahuti292 bagalamukhi hawan
Mantra Chanting3 mala daily
Puja/Sadhna9 Days
Puja time muhurthAfter 10pm
Puja/Sadhana MuhurthTuesday, Saturday
Loading