शिवानंद दास जी के मार्ग दर्शन मे

2 DAYS KUNDALINI DHYAN SHIVIR

AT CHANDIGAD

PARASHURAM BHAVAN, SECTOR-37. CHANDIGAD. PUNJAB.

Learn practical kundalini Dhyan by "Acharya Shivanand Das ji"


जीवन मे जिसने भी अपने चक्रो को समझ लिया तो समझो सफलता की कुंजी उसके हाथ मे आ गई. इस शिविर मे इन चक्रो कोे चैतन्य करने की विधि पैक्टिकल रूप मे दीक्षा के साथ सिखाई जाती है. इस शिविर के द्वारा जहा आप अपनी आर्थिक समस्या तथा मानसिक समस्या मे लाभ प्राप्त कर सकते है, वही अध्यात्मिक क्षेत्र मे भी सफलता प्राप्त कर सकते है.

आचार्य श्री शिवानंद दास जी , जो कि पिछले ४० वर्षो से पूरे भारत मे अध्यात्मिक विषय पर यानी ध्यान- प्राणायाम-्कूंडलिनी- अस्ट्रोलोजी- पामेस्ट्री- न्युम्रोलोजी- प्राण विज्ञान- औरा रीडिंग- एस्ट्रल ट्रेवल्स- पैरा नोर्मल- हिप्नोटिझम तथा मंत्र साधना पर शिक्षा प्रदान कर रहे है.
इस शिविर मे भाग लेकर अपने जीवन को एक नई दिशा दीजिये!
FREE ENTRY! FREE ENTRY! FREE ENTRY!
CALL- 91 8652439844 for booking

Mon.-Sun. 11:00 – 21:00
mantravidya@yahoo.com
91 8652439844

Aghor pashupatastra sadhna for victory

Buy Aghor pashupatastra sadhna for victory

पाशुपतास्त्र भगवान शिव का एक भीषण शूलास्त्र जिसे पांडव भाई अर्जुन ने तपस्या करके प्राप्त किया था। महाभारतका युद्ध हुआ, उसमें भगवान्‌ शिव जी का दिया हुआ पाशुपतास्त्र अर्जुनके पास था, भगवान् शिव ने कह दिया कि तुम्हें चलाना नहीं पड़ेगा..
In stock (11 items)

$54

अघोर पाशुपतास्त्र साधना

पाशुपतास्त्र भगवान शिव का एक भीषण शूलास्त्र जिसे पांडव भाई अर्जुन ने तपस्या करके प्राप्त किया था। महाभारतका युद्ध हुआ, उसमें भगवान् शिव जी का दिया हुआ पाशुपतास्त्र अर्जुनके पास था, भगवान् शिव ने कह दिया कि तुम्हें चलाना नहीं पड़ेगा। यह तुम्हारे पास पड़ा-पड़ा विजय दिला देगा, इसका उपयोग करने की जरूरत नह पडेगीं, अगर चला दोगे तो पृथ्वी में प्रलय हो जायगा। इसलिये चलाना नहीं।

इस पाशुपत साधना करने से मनुष्य समस्त विघ्नों का नाश कर सकता है। तथा युद्ध आदि में विजय प्राप्त कर सकता है। इस मंत्र का घी और गुग्गल से हवं करने से मनुष्य असाध्य कार्यो को पूर्ण कर सकता है । इस पाशुपातास्त्र मंत्र के पाठ मात्र से समस्त क्लेशो की शांति हो जाती है। यह साधना अत्यन्त प्रभावशाली व शीघ्र फलदायी है। वैसे तो भगवान शिव की प्रत्येक साधना तुरंत फलदाई होती है। यदि मनुष्य इस पाशुपतास्त्र साधना को सही तरह से गुरु के मार्गदर्शन मे कर ले तो शत-प्रतिशत सफलता प्राप्त होती है। इस साधना के अनगिनत लाभ प्राप्त होते है।

  • यह साधना करने से शनि का कुप्रभाव दूर हो जाता है।
  • वाद-विवाद, लडाई-झगडा, प्रतिस्पर्धा, मे विजय।
  • असाध्य कार्यो मे सफलता।
  • विघ्न विनाश
  • दांपत्य सुख।
  • युवक- युवतियो मे विवाह से संबंधित समस्याओ का निवारण।
  • तन्त्र-बाधा से मुक्ति

यह सभी कार्य के लिए अमोघ राम बाण है। अन्य सारी बाधाओं को दूर करने के साथ ही युवक-युवतियों के लिए यह अकाटय प्रयोग माना ही नहीं जाता अपितु इसका अनेक अनुभूत प्रयोग किया जा चुका है। जिस वर या कन्या के विवाह में विलंब होता है, यदि इस पाशुपत-स्तोत्र का प्रयोग करें तो निश्चित रूप से शीघ्र ही उन्हें दाम्पत्य सुख का लाभ मिलता है। केवल इतना ही नहीं, अन्य सांसारिक कष्टों को दूर करने के लिए पाशुपत साधना उपयुक्त मानी गई है।

पाशुपतास्त्र साधना मन्त्र

  • OM SHLEEM HUM PASHUM HU PHATT
  • ॐ श्लीं हुं पशुं हुं फट्

पाशुपतास्त्र साधना सामग्री

  • Siddha Pashutastra yantra
  • Siddha Pasupatastra bone mala
  • Pashupatastra Gutika
  • Siddha asan
  • Rakshasutra
  • Holy threads
  • Pashutastra mantra
  • Pashutastra sadhana methods

पाशुपतास्त्र साधना मुहुर्त

  • Day- Krishna paksha trayodashi, Holi, Diwali, Shivaratri, Ravi pushya nakshatra or any Monday
  • Time- after 10pm
  • Direction- south
  • Mantra chanting- 11 rosary
  • Duration- 21 days

See puja/sadhana rules and regulation

See- about Diksha

See- success rules of sadhana

See- Mantra jaap rules

See- Protect yourself during sadhana/puja

Loading