64 yogini naamstrot for peace

February 13, 2014
सुखमय जीवन के लिये चौसठ योगिनी नामस्तोत्रम्

64 yogini strot
 
 नियमित रूप से ६४ योगिनी नामस्त्रोत का पाठ करे और सुखमय जीवन का आनन्द ले।
 
 गजास्या सिंह-वक्त्रा च, गृध्रास्या काक-तुण्डिका ।
 
 उष्ट्रा-स्याऽश्व-खर-ग्रीवा, वाराहास्या शिवानना ॥
 
 उलूकाक्षी घोर-रवा, मायूरी शरभानना ।
 
 कोटराक्षी चाष्ट-वक्त्रा, कुब्जा च विकटानना ॥
 
 शुष्कोदरी ललज्जिह्वा, श्व-दंष्ट्रा वानरानना ।
 
 ऋक्षाक्षी केकराक्षी च, बृहत्-तुण्डा सुराप्रिया ॥
 
 कपालहस्ता रक्ताक्षी, शुकी श्येनी कपोतिका ।
 
 पाशहस्ता दंडहस्ता, प्रचण्डा चण्डविक्रमा ॥
 
 शिशुघ्नी पाशहन्त्री च, काली रुधिर-पायिनी ।
 
 वसापाना गर्भरक्षा, शवहस्ताऽऽन्त्रमालिका ॥
 
 ऋक्ष-केशी महा-कुक्षिर्नागास्या प्रेतपृष्ठका ।
 
 दन्द-शूक-धरा क्रौञ्ची, मृग-श्रृंगा वृषानना ॥
 
 फाटितास्या धूम्रश्वासा, व्योमपादोर्ध्वदृष्टिका ।
 
 तापिनी शोषिणी स्थूलघोणोष्ठा कोटरी तथा ॥
 
 विद्युल्लोला वलाकास्या, मार्जारी कटपूतना ।
 
 अट्टहास्या च कामाक्षी, मृगाक्षी चेति ता मताः ॥
 
 
 ६४ योगिनी स्त्रोत की हवन विधि :-
 
 साधक कृष्ण-पक्ष की चतुर्दशी को उपवास करे । रात्रि में गुग्गुल और घृत से विभक्ति युक्त प्रत्येक नाम के आगे प्रणव ॐ लगाकर, प्रत्येक नाम से १०८ आहुतियाँ अर्पित करे ।
 
 पूरी तरह शुद्ध होकर, एकाग्र-मन से जो इन नामों का पाठ करता है । उसे किसी भी प्रकार का भय, तन्त्र-मन्त्र, नजर, डाकिनी, शाकिनी, कूष्माण्ड और राक्षस आदि किसी प्रकार की पीड़ा नहीं होती । इसके अलावा देवी सभी मनोकामनाओ को भी पूरा करती है ।
 
 हवन के लिये चौंसठ योगिनी नाम इस प्रकार है । प्रत्येक नाम के आदि में ‘ॐ’ तथा अन्त में स्वाहा लगाकर हवन करें।
 
 ॐ गजास्यै स्वाहा ॥ ॐ सिंह-वक्त्रायै स्वाहा ॥ ॐ गृध्रास्यायै स्वाहा ॥
 ॐ काक-तुण्डिकायै स्वाहा ॥ ॐ उष्ट्रास्यायै स्वाहा ॥
 ॐ अश्व-खर-ग्रीवायै स्वाहा ॥ ॐ वाराहस्यायै स्वाहा ॥
 ॐ शिवाननायै स्वाहा ॥ ॐ उलूकाक्ष्यै स्वाहा ॥ ॐ घोर-रवायै स्वाहा ॥
 ॐ मायूर्यै स्वाहा ॥ ॐ शरभाननायै स्वाहा ॥ ॐ कोटराक्ष्यै स्वाहा ॥
 ॐ अष्ट-वक्त्रायै स्वाहा ॥ ॐ कुब्जायै स्वाहा ॥
 ॐ विकटाननायै स्वाहा ॥ ॐ शुष्कोदर्यै स्वाहा ॥
 ॐ ललज्जिह्वायै स्वाहा ॥ ॐ श्व-दंष्ट्रायै स्वाहा ॥
 ॐ वानराननायै स्वाहा ॥ ॐ ऋक्षाक्ष्यै स्वाहा ॥ ॐ केकराक्ष्यै स्वाहा ॥
 ॐ बृहत्-तुण्डायै स्वाहा ॥ ॐ सुरा-प्रियायै स्वाहा ॥
 ॐ कपाल-हस्तायै स्वाहा ॥ ॐ रक्ताक्ष्यै स्वाहा ॥ ॐ शुक्यै स्वाहा ॥
 ॐ श्येन्यै स्वाहा ॥ ॐ कपोतिकायै स्वाहा ॥ ॐ पाश-हस्तायै स्वाहा ॥
 ॐ दण्ड-हस्तायै स्वाहा ॥ ॐ प्रचण्डायै स्वाहा ॥
 ॐ चण्ड-विक्रमायै स्वाहा ॥ ॐ शिशुघ्न्यै स्वाहा ॥
 ॐ पाश-हन्त्र्यै स्वाहा ॥ ॐ काल्यै स्वाहा ॥
 ॐ रुधिर-पायिन्यै स्वाहा ॥ ॐ वसा-पानायै स्वाहा ॥
 ॐ गर्भ-भक्षायै स्वाहा ॥ ॐ शव-हस्तायै स्वाहा ॥
 ॐ आन्त्र-मालिकायै स्वाहा ॥ ॐ ऋक्ष-केश्यै स्वाहा ॥
 ॐ महा-कुक्ष्यै स्वाहा ॥ ॐ नागास्यायै स्वाहा ॥
 ॐ प्रेत-पृष्ठकायै स्वाहा ॥ ॐ दंष्ट्र-शूकर-धरायै स्वाहा ॥
 ॐ क्रौञ्च्यै स्वाहा ॥ ॐ मृग-श्रृंगायै स्वाहा ॥ ॐ वृषाननायै स्वाहा ॥
 ॐ फाटितास्यायै स्वाहा ॥ ॐ धूम्र-श्वासायै स्वाहा ॥
 ॐ व्योम-पादायै स्वाहा ॥ ॐ ऊर्ध्व-दृष्टिकायै स्वाहा ॥
 ॐ तापिन्यै स्वाहा ॥ ॐ शोषिण्यै स्वाहा ॥
 ॐ स्थूल-घोणोष्ठायै स्वाहा ॥ ॐ कोटर्यै स्वाहा ॥
 ॐ विद्युल्लोलायै स्वाहा ॥ ॐ बलाकास्यायै स्वाहा ॥
 ॐ मार्जार्यै स्वाहा ॥ ॐ कट-पूतनायै स्वाहा ॥
 ॐ अट्टहास्यायै स्वाहा ॥ ॐ कामाक्ष्यै स्वाहा ॥ ॐ मृगाक्ष्यै स्वाहा ॥